Monday 10 October 2011

हिन्दी को ज्ञान विज्ञान की भाषा बनाने के लिए कुछ सुझाव

हिन्दी को ज्ञान विज्ञान की भाषा बनाने के लिए कुछ सुझाव:
1. ऐसा गद्य लिखें जो सहज और संप्रेषणीय हो. विचार के लिए कुछ विद्वानों की भाषा को देखना उपयोगी- राहुल सांकृत्यायन (हिमालय नामक पत्रिका को देखें जिसमें हिन्दी में पुरातात्विक विषयों पर लेख संकलित हैं. 2. रामविलास शर्मा 3. निर्मल वर्मा 4. नामवर सिंह 5. राजकिशोर 6. राजेन्द्र यादव 7. प्रभाष जोशी
दूसरा सुझाव:
हर विषय पर जो पहले से हिन्दी या किसी अन्य भारतीय भाषा में उपलब्ध सामग्री हो उसको आधार बनाकर बात को रखना. जैसे अगर फिल्म पर काम करना हो तो नेत्र सिंह रावत से बात शुरू करें.
विज्ञान को हिन्दी में लाने के कुछस्तुत्य प्रयास विपिन कुमार (इलाहाबाद) आदि ने किया था. टेक्स्टबुक लेखन के क्षेत्र में स्वातंत्रोत्त्र काल में छविनाथ पाण्डेय आदि ने बिहार में बहुत बढिया काम किया था. उसे देखें.

तीसरा सुझाव: विश्व को सिर्फ अंग्रेजी के माध्यम से देखने के बजाए अन्य भाषाओं के माध्यम से भी देखने का प्रयास करें.

चौथा सुझाव: जो कर सकें करें. दूसरों की कमियों पर कम बात करें.

पाँचवाँ सुझाव: कोई भी अंतिम बात नहीं कह सकता. कल और आयेंगे हमसे बेहतर कहने वाले हमसे बेहतर सुनने वाले ...

No comments:

Post a Comment